Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Posts Tagged ‘newspapers’

लेख का भाग एक , दो 

    समाचार-पत्र अगर समाचारों के पत्र होते , तो इतनी सारी बहस की जरूरत नहीं होती । अगर दुनिया मे कभी समाचारों का पत्र होगा तो वह एक बिलकुल भिन्न चीज होगी । मौजूदा सभ्यता में समाचार-पत्र एक तरह से देखें तो जनमत का प्रहरी है , दूसरे ढंग से देखें तो वह जनमत का निर्माता है । यह मत-निर्माण सिर्फ तात्कालिक मुद्दों के बारे में नहीं होता है , बल्कि गहरी मान्यताओं और दीर्घकालीन समस्याओं के स्तर पर भी होता है । यह मत-निर्माण या प्रचार इतना मौलिक और प्रभावशाली है कि इसे मानस-निर्माण ही कहा जा सकता है । प्रचार का सबसे प्रभावशाली रूप है समाचार वाला रूप । अगर आप यह कहें कि ’ गन्दगी से घृणा करनी चाहिए’, तो यह गन्दगी के खिलाफ़ एक कमजोर प्रचार है । अगर आप कहें कि ’गन्दगी बढ़ गयी है’, तो गन्दगी के खिलाफ़ यह ज्यादा प्रभावशाली वाक्य है । आप कहे कि ’पाकिस्तान को दुश्मन समझो’, तो इसका असर कम लोगों पर होगा । कुछ लोग पूछेंगे , क्यों ? लेकिन वही लोग जब पढ़ेंगे कि ’ पाकिस्तान को अमरीका से हथियारों का नया भंडार मिला’ तो दुश्मनी अपने आप मजबूत हो जायेगी । आप प्रचार करेंगे कि ’ हमें पाँच-सितारा होटलों की जरूरत है’, तो लोग कहेंगे – नहीं । लेकिन वे जब पढ़ेंगे कि ’ होटल व्यवसाय से सरकार ने १० करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा कमाई’ तो उन्हें खुशी होगी । प्रचार में द्वन्द्व रहता है । शिक्षा – दान में द्वन्द्व रहता है । समाचार में द्वन्द्व नहीं होता है – इसलिए समाचारों से मान्यतायें बनती हैं , मानस पैदा होता है । इसीसे अनुमान लगाना चाहिए कि दैत्याकार बहुराष्ट्रीय पत्र – पत्रिकाओं का कितना प्रभाव तीसरी दुनिया के शिक्षित वर्ग पर होता है ।

     गांधीजी ने जब ’हिन्द-स्वराज्य’ लिखा, डॉक्टरों और वकीलों के पेशे को समाज-विरोधी पेशे के रूप में दिखाया । हो सकता है कि वे उदाहरणॊं की संख्या बढ़ाना नहीं चाहते थे या हो सकता है कि पत्रकारों के समाज – विरोधी चरित्र का साक्षात्कार उन दिनों उन्हें नहीं हुआ था । गांधी अति अव्यावहारिक विचारकों की श्रेणी में आते हैं । उनके सपने का समाज नहीं बनने वाला है । हम वकीलों-डॉक्टरों के पेशे को समाज -विरोधी नहीं कह सकते । साधारण नागरिक के लिए पग-पग पर वकील-डॉक्टर की सेवा की जरूरत पड़ जाती है । जैसे हम जानते हैं कि स्कूलों में अच्छी शिक्षा नहीं दी जाती है, लेकिन हम अगर स्कूलों को समाज विरोधी कहेंगे, तो हमारे बच्चे मूर्ख रह जायेंगे । इसी तरह समाचार-पत्र के आधुनिक मनुष्य के लिए  एक बहुत बड़ा बोझ होने पर भी उसे पढ़े बिना रहने पर हम अज्ञानी रह जायेंगे । समाज में बात करने लायक नहीं रह जायेंगे । ज्यादा से ज्यादा आप इसे एक विडम्बनापूर्ण स्थिति कह सकते हैं , जहाँ समाचार-पत्रों की स्वाधीनता है , लेकिन पत्रकार पराधीन है । समाचार-पत्र आधुनिक मनुष्य के ऊपर एक बहुत बड़ा अत्याचार है । साथ ही , वह हमारी सांवैधानिक आजादी का माध्यम भी है ।

– स्रोत : सामयिक वार्ता , अक्टूबर , १९८८

 

Advertisements

Read Full Post »

पिछले बुधवार (२४ दिसम्बर , ‘०८ ) से बनारस से छपने वाला कोई अखबार बँट नहीं रहा है । न बँटने का कारण जान लेने के बाद सुबह-सुबह अखबार न पाना अखर नहीं रहा है । यदि एक हफ़्ते अखबार छप नहीं रहे होते तब शायद मीडिया में कोहराम मच गया होता ।

दरअसल पिछले एक हफ़्ते से बनारस शहर में यहाँ से छपने वाले अखबारों को घर-घर पहुँचाने वाले करीब ढाई हजार हॉकर हड़ताल पर हैं । ‘अमर उजाला’ , ‘हिन्दुस्तान’ और ‘दैनिक जागरण’ ने अपनी कीमत तीन से साढ़े तीन रुपये की और हॉकरों का कमीशन सिर्फ़ पाँच पैसे बढ़ाया । अखबारों की कमाई उस पर छपी कीमत से कहीं अधिक विज्ञापनों से मिलने वाले धन से होती है इसलिए हॉकरों की जायज माँग मानने में अखबार छापने वाले व्यवसाइयों को दिक्कत नहीं होनी चाहिए थी । अखबार व्यवसाइयों ने अपना घिनौना स्वरूप प्रकट करना शुरु किया है । नगर के तमाम पुलिस- बूथों से अखबार बँटवाना शुरु किया है । यह अलग बात है कि अखबार-पुलिस के इस चोली-दामन के साथ(या चोर-चोर मौसेरे भाइयों वाले नाते) से घर-घर अखबार पहुँचाने की भरपाई मुमकिन नहीं है ।

बनारस के निकट मेंहदीगंज के किसानों ने कोका कोला कम्पनी द्वारा भूगर्भ जल के दोहन के विरुद्ध जब आन्दोलन छेड़ा था तब हिन्दुस्तान टाइम्स प्रकाशन समूह ने शीतल पेय कम्पनी से करोड़ों रुपये का विज्ञापन ले कर आन्दोलन की खबरों को ब्लैक-आउट कर दिया था । नगर के एक मात्र पाँच सितारा होटल में शीतल पेय कम्पनी का राष्ट्रीय स्तर का अधिकारी आया था और उसने अखबार वालों से अपील की थी , ‘ अखबार भी हमारी तरह व्यवसाय है इसलिए हमारा साथ दीजिए ।’

दीए और तूफ़ान की इस लड़ाई में दीए बुलन्द रहें , कामना है ।

Read Full Post »

%d bloggers like this: