Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Posts Tagged ‘hindi kavita’

वे वर्तमान की चिंताओं में दुबले नहीं होते
वे रहते हैं अतीत के खोये हुए महल में
जहां सब कुछ है आलीशान
और महान
भारी और भव्य

नए पौधे रोपने में उनका यकीन नहीं
वे आंधी में उखड़ गए बूढ़े पेड़ को
उसकी जड़ों से जोड़ने में जुटे रहते हैं
और सोचते हैं
इस तरह वे लौट जाएंगे
आंधी से पहले के मौसम में

वे पुरखों की वीरता के किस्से सुना कर
सोचते हैं उनकी कायरता छिपी रहेगी
वे दावा करते हैं
की वे दुरुस्त कर सकते हैं बीते हुए समय को
वे दूर कर सकते हैं इस आदमी की बीमारी
अगर लोग इसकी लाश को बचा कर रखें.
– राजेन्द्र राजन
(स्रोत -शुक्रवार)

Read Full Post »

%d bloggers like this: