Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Posts Tagged ‘कविता’

गौरैया

विकास

कम हो रही हैं चिड़ियां
गुम हो रही हैं गिलहरियां
अब दिखती नहीं हैं तितलियां
लुप्त हो रही हैं जाने कितनी
जीवन की प्रजातियां

कम हो रहा है
धरती के घड़े में जल
पौधों में रस
अन्न में स्वाद
कम हो रही है फलों में मिठास
फूलों में खुशबू
शरीर में सेहत

कम हो रहा है
जमीन में उपजाऊपन
हवा में आक्सीजन

सब कुछ कम हो रहा है
जो जरूरी है जीने के लिए
मगर चुप रहो
विकास हो रहा है इसलिए ।

– राजेन्द्र राजन.

Advertisements

Read Full Post »

भालू की आँखें तुझे देख रही हैं
तूने उसे जो पानी का सोता दिखाया था
वह ऊपर गुफा तक जाता है
भालू की आँखें कहती हैं
तुझे गुफा तक ले जाऊँ
वहाँ तू भालू को सीने से लगा सोएगी
बीच रात उठ पेड़ों से डर मेरा कंधा माँगेगी
भालू पड़ा होगा जहाँ तू सोई थी
कीट पतंगों की आवाज के बीच बोलेगी चिड़िया
तुझे प्यार करने के लिए
भालू को पुचकारुँगा
तू ले लेगी भालू को फिर देगी अपना नन्हा सीना
बहुत कोशिश कर पूछेगी
बापू भालू 
मैं सुनूँगा भालू भालू 
गाऊँगा सो जा भालू सो जा भालू 
नहीं कह पाऊँगा उस वक्त दिमाग में होगी सुधा
छत्तीसगढ़ में मजदूर औरत की बाँहों से तुझे लेती
तब तक कहता रहूँगा  सो जा भालू सो जा 
जब तक तेरी आँखों में फिर से आ जाएगा जंगल
जहाँ वह सोता है
जो ऊपर गुफा तक जाता है..........

किस डर से आया हूँ यहाँ
डरों की लड़ाई में कहाँ रहेगा हमारा डर
तेरा भविष्य बोस्निया से भागते अंतिम क्षण
हे यीशुः कितनी बार क्षमा


क्या अयोध्या में आए सभी निर्दोषों को करेगा ईश्वर मुआफ
तू क्या जाने ईश्वर बड़ा पाखंडी
वह देगा और ताकत उन्हें जो हमें डराते
भालू को थामे रख
यह पानी का सोता जंगल में बह निकल जहाँ जाता है
वहाँ पानी नहीं खून बहता है
तब चाँद नहीं दिखता भालू डर जाएगा.........

भालू को थामे रख
वह नहीं हिंदू मुसलमान
खेल और गा भालू खा ले आलू
कोई मसीहा नहीं जो भालू को बचा पाएगा
कोई नहीं माता पिता बंधुश्चसखा
इस जंगल से बाहर ...

भालू को थामे रख।

(रविवारी जनसत्ता  १९९२)
 

 

Read Full Post »

हत्यारे ने उस औरत को मारने में दो मिनट लगाए

उस पर दो शताब्दियों तक चलता है मुकदमा

जिसने सार्वजनिक कोष से साफ़-साफ़ उड़ा लिए सैकड़ों करोड़ रुपये

उसकी सत्तर साल तक जांच करता है जांच आयोग

कोई किसी से पूछता है, क्यों यह समय इतना निरपेक्ष और किसी

अक्षम्य पाप जैसा है

जब नहीं सुनता कोई किसी की बात तो एक उपेक्षित कवि

अपने कान समूची पृथ्वी पर लगाता है

हर अँधेरे में सुलगती हैं उसकी पीड़ित आत्मा की खुफिया आँखें

अप्रासंगिकताएं क्यों हावी हैं इस कदर तमाम अच्छी और ज़रूरी चीज़ों पर

जो ठीक-ठाक हैं और जो चाहिए तमाम लोगों को

उनका विज्ञापन क्यों नहीं दिखाई देता कहीं ?

उनकी कोई कीमत क्यों नहीं बची, कुछ बताएंगे आप ?

एक छोटी-सी जेब में समा जाने वाली कंघी,

खैनी, राई, अरहर और गुड के लिए

अपने कपडे क्यों नहीं उतारतीं मधु सप्रे और अंजलि कपूर

बीडी के बण्डल का रैपर क्यों नहीं बनाते अलेक पदमसी

वो कौन हैं जिनके लिए है इतना सारा उद्योग

रात भर कई सालों से गिरती हैं आकाश से सिसकियाँ और खून

स्वप्न चुभतेहैं उसके तलवों में जो भी इस समाज से गुज़रता है

एक गरीब धोबी जो टैगोर हो सकता था

सारे शहर के कपडे धोता है आधी रात अपने आंसुओं से

एक स्त्री जोर-जोर से हंसती है अपनी ह्त्या के ठीक एक पल पहले

कोई विश्वास
होता है हर बार, जिस पर घात होता है हर बार

सबलोग यह जानते हैं पर खामोशी ही लाजिमी है

जो व्यक्त करता है यथार्थ को

वह मार दिया जाता है अफवाहों से |

(‘रात में हारमोनियम’, १९९८, वाणी प्रकाशन)

उदय प्रकाश

कवि की पीड़ित खुफिया आंखे

Read Full Post »

यह तो कुमार विकल को भी ठीक ठीक नहीं पता था

कि वह पीता क्यों था

हम नाहक़ दोस्तों को कोसते रहे

पीने के वजहें सबसे अधिक तब मिलती हैं

जब पास कोई न हो

अनजान किसी ग्रह से वायलिन की आवाज़ आती है

आँखों में छलकने लगता है जाम

उदास कविताएँ लिखी जाती हैं

जिन्हें बाद में सजा धजा हम भेज देते हैं

पत्रिकाओं में

कोई नहीं जान पाता

कि शब्दों ने मुखौटे पहने होते हैं

मुखौटों के अंदर

रो रहे होते हैं शब्द ईसा की तरह

सारी दुनिया की यातनाएँ समेटे।

लिख डालो, लिख डालो

बहुत देर तक अकेलापन नहीं मिलेगा

नहीं मिलेगी बहुत देर तक व्यथा

जल्दी उंडेलो सारी कल्पनाएँ, सारी यादें

टीस की दो बूँदें सही, टपकने दो इस संकरी नली से

लिख डालो, लिख डालो।

बहुत देर तक बादल बादल न होंगे

नहीं सुनेगी सरसराहट हवा में बहुत देर तक

जल्दी बहो, निचोड़ लो सभी व्यथाएँ, सभी आहें

अभ्यास ही सही, झरने दो जो भी झरता स्मृति से

लिख डालो, लिख डालो।

लाल्टू

[ कवि-मित्र लाल्टू के जन्म दिन पर उन्हीकी कविता सप्रेम पेश ]

लाल्टू की कुछ और कवितायें :  वह प्यार

लाल्टू से सुनो  ,  

लाल्टू की अभिव्यक्ति

Read Full Post »

तुम तरुण हो या नहीं

तुम तरुण हो या नहीं यह संघर्ष बतायेगा ,

जनता के साथ हो या और कहीं यह संघर्ष बतायेगा ।

तुम संघर्ष में कितनी देर टिकते हो ,

सत्ता के हाथ कबतक नहीं बिकते हो ?

इससे ही फैसला होगा –

कि तुम तरुण हो या नहीं –

जनता के साथ हो या और कहीं ।

 

तरुणाई का रिश्ता उम्र से नहीं, हिम्मत से है,

आजादी के लिए बहाये गये खून की कीमत से है ,

जो न्याय-युद्ध में अधिक से अधिक बलिदान करेंगे,

आखिरी साँस तक संघर्ष में ठहरेंगे ,

वे सौ साल के बू्ढ़े हों या दस साल के बच्चे –

सब जवान हैं ।

और सौ से दस के बीच के वे तमाम लोग ,

जो अपने लक्ष्य से अनजान हैं ,

जिनका मांस नोच – नोच कर

खा रहे सत्ता के शोषक गिद्ध ,

फिर भी चुप सहते हैं, वो हैं वृद्ध ।

 

ऐसे वृद्धों का चूसा हुआ खून

सत्ता की ताकत बढ़ाता है ,

और सड़कों पर बहा युवा-लहू

रंग लाता है , हमें मुक्ति का रास्ता दिखाता है ।

 

इसलिए फैसला कर लो

कि तुम्हारा खून सत्ता के शोषकों के पीने के लिए है,

या आजादी की खुली हवा में,

नई पीढ़ी के जीने के लिए है ।

तुम्हारा यह फैसला बतायेगा

कि तुम वृद्ध हो या जवान हो,

चुल्लू भर पानी में डूब मरने लायक निकम्मे हो

या बर्बर अत्याचारों की जड़

उखाड़ देने वाले तूफान हो ।

 

इसलिए फैसले में देर मत करो,

चाहो तो तरुणाई का अमृत पी कर जीयो ,

या वृद्ध बन कर मरो ।

 

तुम तरुण हो या नहीं यह संघर्ष बतायेगा ,

जनता के साथ हो या और कहीं यह संघर्ष बतायेगा ।

तुम संघर्ष में कितनी देर टिकते हो ,

सत्ता के हाथ कबतक नहीं बिकते हो ?

इससे ही फैसला होगा –

कि तुम तरुण हो या नहीं –

जनता के साथ हो या और कहीं ।

 

श्याम बहादुर नम्र

अंकुर फार्म , जमुड़ी , अनूपपुर , मप्र – ४८४२२४

namrajee@gmail.com

 

 

 

Read Full Post »

गंगा मस्जिद

यह बचपन की बात है, पटना की।

गंगा किनारे वाली ‘गंगा मस्जिद’ की मीनार पर,

खड़े होकर घंटों गंगा को देखा करता था।

गंगा छेड़ते हुए मस्जिद को लात मारती,

कहती, “अबे मुसलमान, कभी मेरे पानी से नहा भी लिया कर”।

और कह कर बहुत तेज़ भागती दूसरी ओर हँसती हँसती।

मस्जिद भी उसे दूसरी छोर तक रगेदती हँसती हँसती।

परिन्दे ख़ूब कलरव करते।

इस हड़बोम में मुअज़्ज़िन की दोपहर की नीन्द टूटती,

और झट से मस्जिद किनारे आ लगती।

गंगा सट से बंगाल की ओर बढ़ जाती।

परिन्दे मुअज़्ज़िन पर मुँह दाब के हँसने लगते।

मीनार से बाल्टी लटका,

मुअज़्ज़िन खींचता रस्सी से गंगा जल।

वुज़ू करता।

आज़ान देता।

लोग भी आते,

खींचते गंगा जल,

वुज़ू करते, नमाज़ पढ़ते,

और चले जाते।

आज अट्ठारह साल बाद,

मैं फिर खड़ा हूँ उसी मीनार पर।

गंगा सहला रही है मस्जिद को आहिस्ते आहिस्ते।

सरकार ने अब वुज़ू के लिए

साफ़ पानी की सप्लाई करवा दी है।

मुअज़्ज़िन की दोपहर,

अब करवटों में गुज़रती है।

गंगा चूम चूम कर भीगो रही है मस्जिद को,

मस्जिद मुँह मोड़े चुपचाप खड़ी है।

गंगा मुझे देखती है,

और मैं गंगा को।

मस्जिद किसी और तरफ़ देख रही है।

– फ़रीद ख़ान

………………………………………06/12/2010

*मुअज़्ज़िन – आज़ान देने वाला।

Read Full Post »

[ वरिष्ट कवि ज्ञानेन्द्रपति से कल सैमसुंग-साहित्य अकादमी पुरस्कार की बाबत चर्चा हुई तो उन्होंने कला संकाय के चौराहे पर यह कविता सुनाई तथा इसे छापने की इजाजत दी । कवि के प्रति आभार ।]

निकलने को है राजाज्ञा

(एक तारकशाली साहित्यिक संगोष्ठी में कविता की प्रामाणिकता के लिए एक अखिलदेशीय आयोग बनाने के ’आधिकारिक’ प्रस्ताव की खबर सुन कर )

अधिकारी – कवि

ही हो सकते अब अधिकारी कवि

निकलने को है राजाज्ञा – शाही फ़रमान

साथ कड़ी ताक़ीद

कि कोई भी अनधिकार चेष्टा

दण्डनीय ठहरायी गयी है अब आगे

यह हुआ बहुत कि जिनको

बमुश्किल जुटती दो वक्त की रोटी

वे भी कविता टाँकें

जिनकी न परम्परा में गति , न जो आधुनिकता के हमक़दम

जनेऊ की लपेटन के घट्टे के बग़ैर जिनके कान

और उन पर चढ़ी भी नहीं रे – बॉन के चश्मे की डंडी

उनकी आँखें खुली रहें , यही बहुत

नाहक ना वे ताके-झाँकें

देश-दशा को आँकें

बात यह कि जब तक मुफ़लिसी को गौरव से मढ़ा जायेगा

देश से समृद्धि की दिशा में न बढ़ा जायेगा

दरअस्ल वैसे खरबोले कवि

लोकतंत्र का बेज़ा इस्तेमाल कर रहे हैं

ख़राब कर रहे हैं देश की छवि

लोगों को बहका रहे हैं

असंतोष लहका रहे हैं

बल्कि देश की सुरक्षा को ख़तरे में डाल रहे हैं

सो, राजाज्ञा का -निषेधाज्ञा का-प्रारूप तय्यार हो रहा है

जुटी है वर्ल्ड बैंक के विशेषज्ञों की देख-रेख में

एक सक्षम समिति इस काम पर

काम तमाम तक

इसलिए भी , क्योंकि

इस क्षेत्र में पूँजी-निवेश की संभावनाएँ अपार हैं

अनुदान कहे जाने वाले ऋण की भी

अन्तरराष्ट्रीय धनकुबेरों से वार्ता जारी है

आख़िर तो यह

अनुकूलन के उनके बृहत्तर प्रोजेक्ट का हिस्सा है !

-ज्ञानेन्द्रपति

ज्ञानेन्द्रपति

Read Full Post »

Older Posts »

%d bloggers like this: