Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Archive for दिसम्बर, 2011

फेसबुक पर वीरेंद्र यादव , अशोक कुमार पांडे  और मैंने प्रशांत भूषण द्वारा हिमाचल प्रदेश में सरकार द्वारा दी गई इजाजत से खरीदी गई जमीन पर चर्चा की है  |हिमाचल में अन्य राज्यों के नागरिक बिना सरकारी अनुमति के भूमि नहीं ले सकते | सामाजिक काम के नाम पर वहां की भाजपा सरकार ‘संघ’ को भी भूमि मुहैया कराती है | वरिष्ट कवि लाल्टू ने इस मुद्दे पर प्रशांत भूषण के हक़ में विचार रखे हैं |खबर यह है :

Prashant Bhushan’s society bought tea garden land
Tribune News Service

Dharamsala, December 23
A close aide of Anna Hazare, Prashant Bhushan, bought 4-68-28 hectares (122 kanals) of tea garden land in the Palampur area in the name of an educational society.

The information came in response to a question raised by the Congress MLA from Baijnath, Sudhir Sharma, in the Himachal Assembly today.

Sharma had sought details from the government regarding the number of permissions given by the present government under Section 118 of the Land Tenancy Act to purchase tea gardens in the state during a period extending from 2008 to November 2011.

While replying to the query Minister for Revenue Ghulab Singh informed the House that just one permission, to buy tea garden land, had been given during the said period. He said the Kumud Bhushan Educational Society, Kandbari, through Prashant Bhushan, son of Shanti Bhushan, resident of Noida, had been given permission to buy 4-68-28 hectares of tea garden land.

The sale and conversion of status of tea garden land in Himachal is strictly prohibited under the revenue laws. The status of tea garden lands, most of which are located in Kangra district, cannot be changed without permission from the state government

  • Tajendra Rajorallike this.

    Yesterday at 09:49 · Like
  • Aamir SiddiquiYe sirf avsarwaad ka example he… BJP apna avsar sidha karegi, aur punjipati apna…. Aam janta sirf billio ki ladaai me har baar bandar baat me thagi jaati he… .. .

    23 hours ago · Like · 3
  • Manish Yadaviska jawab IAC unhi niymon ka hawaalaa dekar karegi jin niyamon ko wo kachra bata rahi hai.Waise inka record khud ke bhrastaachaar par behas hote hi ye gaali galauj par utar jaate hain

    23 hours ago · Like · 1
  • Ajai Kumar MishraYadav Ji Himachal mein Prashant Bhushan Jaise garib? ko chay Bagan ke loye jamin nahin milegi to kya kisi aur ko milegi.

    23 hours ago · Like · 1
  • Syed Sarwar HussainYe Avsarvadi log he, en logo ko desh se koi lena dena nahi he, ye v dusre neta ki hi tarah hame thagne pe aamada he…

    23 hours ago · Like · 1
  • Rochéan Éttshearing

    23 hours ago · Like · 1
  • Cdr Chandra ShekharMujhe nahin pata tha ki slum men bhi itane christians hain ki vahan Christmas manaya jaye.

    22 hours ago · Like
  • Tahira HasanNow people who were supporting this protest and converted it in movement and then kranti should come out with reasonable answer that how come corrupt team can fight against corruption. corporate media should be made accountable why they pay no attention to protes like irom sharmila she has been on fast for decades why indiffrences by media and people of self appointed civil society and ofcourse government is really very shameful.

    21 hours ago · Like · 1
  • Shobhaakar ShameekNow it is prooved that all this game is sponsered by BJP & RSS to push the nation in anarchy & bring fascism.They all are fully exposed now.

    20 hours ago · Like · 1
  • Sarita Kapoorlike this

    20 hours ago · Like
  • Shobhaakar ShameekThere is no electronic media in our country ,there are only TV channels which will not rethink.Those are paid.

    20 hours ago · Like · 1
  • Anurag Kumaryah bhrastachar kahan hai , yah to gift hai , jiska sur kutch aisa hai ‘ TU MUJHE UTHA , MAIN TUJHE UTHAUN ‘ .

    19 hours ago · Like · 1
  • Virendra Yadavध्यान देने की बात यह भी है कि मीडिया ने भी इस जानकारी को चर्चा केबाहर रखा है .आज दिल्ली में सभी चैनलों ने प्रशंत्भूशण की प्रेस कांफेरेंस का सीधा प्रसारण किया लेकिन किसी ने भी इस बाबत कोई भी सवाल नहीं पूछा . मीडिया की इस मेहबानी को भी दर्ज किया जाना चाहिए .

    16 hours ago · Like
  • Neetu Rawatvirendra ji ko dhanyavad is khabar ko sajha karne keliye…..kaun kya kar raha ha ye jante hue bhi chup rahna bhi bhrashtachar hai….aur yaha to milijuli kahani chal rahi hai…..

    13 hours ago · Like · 1
  • Singh KshamaIf team anna is corrupt…they sud b punished….jo lokpal ayega..wahi unhe bhi jail le jayega…to lokpal ka aana aur bhi jaruri hai.

    13 hours ago · Like
  • Shobhaakar Shameekkya lokpal aane tak in logon ko loot ki choot rahe?

    13 hours ago via · Like · 1
  • Arun Etv Lkolike this

    12 hours ago · Like
  • Singh KshamaMr. shameek … wo kisi aur k corruption ko utha rhe hain..aap unke corruption ko uthayen..aise desh ka kuch to bhala hoga..

    12 hours ago · Like
  • Shuchita Srivastavabilkul sahi kha aapne

    12 hours ago · Like · 1
  • Shashi Bhooshanभाजपा चाहे जितनी छूट दे वह नहीं चाहेगी कि जन लोकपाल बिल पास हो। वह राजनीतिक लाभ चाहती है। पहले भी वह भ्रष्टाचार के खिलाफ चुनाव लड़कर केंद्र में आकर पूर्व से बड़े भ्रष्टाचारों का इतिहास बना चुकी है। अन्ना हज़ारे यदि सरकार के भ्रष्टाचार के खिलाफ़ अब तक का सबसे बड़ा जन आंदोलन चला रहे हैं तो इसमें सबसे बड़े विपक्षी दल को फायदा होना लाज़िमी है। यह सब समझ रहे हैं इसीलिए अन्ना को भाजपा से जोड़ने की कोशिशों में अपना स्वर मिला पाने को मज़बूर हैं। सवाल है कि यह लाभ दूसरे दल क्यों नहीं ले सकते? भाजपा यदि गांधीवादी को अपना नेता मान सकती है तो हम भ्रष्टाचार के मसले पर लचीले क्यों नहीं हो सकते (वास्तव में वामपंथ का यह पहला हक है। किसी वामपंथी नेता पर भ्रष्टाचार के आरोप अब तक तो अदालत में नहीं हैं।) हम सबसे बड़ा विपक्ष क्यों नहीं हैं? पर इसका जवाब सबको पता है। मज़ेदार बात यह है कि इतनी आसान बात जटिल होती जा रही है कि जो व्यक्ति झूठा और भ्रष्ट नहीं है, देश और समाज का भला चाहता है तथा गांधी को अपना आदर्श मानता है वह सैद्धांतिक रूप से संघ का एजेंट कैसे हो सकता है? मेरा अनुभव है कि आप यह वाक्य उलटकर कहना चाहते रहे हैं कि अन्ना हज़ारे गांधीवादी कैसे हो सकता है? मैं सचमुच आपसे जानना चाहता हूँ कि आपके द्वारा अन्ना हज़ारे की टीम के संबंध में वैयक्तिक ईमानदारियों की माँग इतनी पुख्ता और लगातार क्यों है? ऐसे में तो आपसे भी सवाल किया जा सकता है कि जो मित्र नौकरियों में हैं और वर्किंग आवर्स में आपके यहाँ कमेंट लिखते हैं। फेसबुक पर होते हैं उन्हें वक्त की चोरी का दोषी मानते हुए मित्र सूची से बार करें। आप और अन्य आपके समर्थकों के तर्क कांग्रेस के तर्क जैसे क्यों होते है? गांधी ने एक बार कहा कि मैं जनरल डायर को पसंद नहीं करता पर यदि मुझे पता चले कि उसे साँप ने काट लिया है तो मैं उसका ज़हर चूस लेने को दौड़ पड़ूँगा। अन्ना हज़ारे के संबंध में यदि आपकी कोई ऐसी ही नागरिक कमज़ोरी हो तो ज़रूर बतायें। यहाँ आप मुझे विषयांतर के लिए माफ़ करेंगे ऐसी उम्मीद है।

    11 hours ago · Like · 1
  • Virendra Yadav‎@ shashi Bhooshan,… मार्क्स ने कहा था everything that is human is not alien to Marxism,इसलिए गांधीवादी हुए बिना भी मानवीय हुआ जा सकता है ,यह कोई कमजोरी नहीं मानवीय कर्तव्य है . हाँ ,लेकिन ऐसा क्यों है कि आपको अन्ना की आलोचना या उनके आंदोलन को प्रश्नांकित करने पर कांग्रेस की गंध आने लगती है .यह चीजो को अन्नावादी द्विविभाजन में देखना है और अंध अन्नाभाक्त होना है .अन्नाटीम दूसरों से जिस आचरण की उम्मीद करती है क्या उससे उसी आचरण की जवाबदेही नहीं होनी चाहिए .किरण बेदी ने टिकट के मामले में जो किया वही करने पर हजारों सरकारी कार्मिकों की नौकरियां चली गयी हैं ,क्या किरण बेदी से सवाल भी नहीं पूछे जाने चाहिए?

    11 hours ago · Like · 1
  • Virendra Yadavcontd. प्प्रशंत भूषन को क्या जवाबदेह नहीं होना चाहिए ? अरविन्द केजरीवाल के आचरण पर टिप्पडी क्यों नहीं करनी चाहिए ? वे मुस्लिम संगठनों और धार्मिक नेताओं के बीच राजनीतिक नेताओं कि तरह जाकर क्यों टोपी लगा लेते हैं ? बात सिर्फ इतनी है की जो भष्टाचार विरोधी आंदोलन का दम भरते हैं उनका आचरण सवालों के ऊपर नहीं तो सवालों के घेरे में तो होनका ही चाहिए .मैं स्वयं कोई शुध्धातावादी नहीं हूँ और न अपने मित्रों से कठोर शुध्ध्तावादी आचरण की चाहत रखता हूँ ,लेकिन जो अपने सिवा अन्य सभी को संदेह के घेरे में रखते हैं ,उन्हें तो आदर्श प्रस्तुत ही करना चाहिए .

    10 hours ago · Like · 3
  • Tejinder GaganSach baat to yeh hai ki anna hazare aur un ki team ne rss aur saaf taur par bjp ki madad se pure desh mein ek tarah ki anarchy faila kar rakhi huee hai.

    10 hours ago · Like · 2
  • Shashi Bhooshan ‎@ Virendra Yadav, सर, मुझे अंदाज़ा था कि आप कमज़ोरी शब्द को पकड़ेंगे। फिर भी मैंने लिखा तो मकसद यह था कि इशारा किया जाये कि विरोध की भी कुछ कमज़ोरियाँ बड़ी ज़रूरी और मानवीय होती हैं। आपने मुझमें अन्ना की अंध भक्ति देखी तो यह आपकी दृष्टि होगी। जबकि मैं अपने आपको कम्युनिष्ट मानता हूँ। मार्क्सवादी होने के नाते आप बेहतर जानते हैं कि किसी से शत प्रतिशत चारित्रिक शुद्धता की अपेक्षा वो भी किसी आंदोलन के संदर्भ में क्या मायने होते हैं। हमारे ही समाज में बड़े और छोटे अपराध के पैमाने हैं। लाख रुपये का गबन करने वाला हमेशा से तर्क देता रहा है कि आपने भी एक रुपया चुराया था। चोरी तो चोरी होती है। जब आप चोर ही हैं तो हमें कहने का क्या अधिकार? हमारे ही समाज में बड़े अपराध की बड़ी सज़ा और ग़लती के लिए क्षमा का नियम है। कहने का मतलब यह कि अन्ना के संबंध में आज कोई प्रश्न इतना बड़ा नहीं है जो उनके आंदोलन को संदिग्ध बना दे। इस आंदोलन में दलितों और अल्पसंख्यकों के मुद्दे भी जुड़ने ही चाहिए। पर जब तक यह हीनता दूर नहीं हो जाती हमें नीयत में खोट देखते रहना भी नहीं चाहिए। आपने किरण बेदी की बात की। मैं आपसे सहमत हूँ। उन्हें आयोजकों को इससे अवगत कराना था। पर यह भी तो खयाल किया जा सकता है कि इकोनामी और बिजनेस क्लास की यात्रा में सुविधा के लिहाज़ से क्या फर्क है? इकोनामी क्लास की यात्रा यदि पाँच घंटे से अधिक की हो तो बस की यात्रा भली। खिड़की से बाहर सिर तो निकाल सकते हैं। चेतावनियाँ तो नहीं माननी पड़ती। बैठना तो खैर बस जैसा ही होता है उस क्लास में। अब यदि कोई इस तरह धन बचा रहा है तो यह कितना बड़ा अपराध है? मैं खुद राजधानी एक्सप्रेस की चाय, बिस्किट, भुजिया बचाकर घर लाता हूँ। जबकि मुझे ईमानदारी से वहीं खाना चाहिए। मैं सचमुच जानना चाहूँगा कि फर्ज़ी बिलों के सेटलमेंट में कौन से हज़ारों की नौकरियाँ चली गयीं? मेरी जानकारी में तो अभी पिछले महीने एक विश्वविद्यालय के वरिष्ठ प्रोफेसर 30 हज़ार रिश्वत लेते ट्रैप हुए और सस्पेंड तक नहीं हुए। ज़मानत मिल गयी वहीं लोकायुक्त से। सवाल प्रश्न करने का भी नहीं मुहिम का है सर। मैं महींनो से आपको पढ़ रहा हूँ इस मुद्दे पर। आप भले मुझे अंध भक्त कह रहे हैं पर आप बड़ी निर्दयता से अन्ना के विरोध में हैं। और मैं आपसे मित्रों के प्रति शुद्धतावादी आचरण की अपील नहीं कर रहा सिर्फ एक सवाल ही रख रहा हूँ कि ऐसे दर्जनों लोग हैं जो वक्त की चोरी करते हैं, अपनी पहचान छुपाते हैं और हमारे आपके साथी हैं तो क्या हमें उनके प्रति भी जवाबदेह नहीं होना चाहिए? क्या यह भ्रष्टाचार नहीं? रही बात कांग्रेस की तो यह बड़े ताज्जुब की बात है कांग्रेस प्रवक्ताओं के बयान हमारे कई साथियों से मिलते हैं। राजनीतिक स्तर पर तो वामपंथ कांग्रेस का साथ देता ही रहा है बौद्धिक जुगलबंदी भी हैरान करनेवाली है। इनमें से कुछ को तो आप बाकायदा जनवरी में सफदर हाशमी को सलाम करते भी देखेंगे। यह सचमुच विचारणीय है कि मार्क्सवादी बयान अन्ना के प्रसंग में कैसे कांग्रेस से मिलते जुलते हैं?

    9 hours ago · Like
  • Anurag Modii will request you to please verify the facts with prasahnt

    8 hours ago · Like
  • Virendra Yadav‎@Anurag Modi . you mean to say facts given by uttarakhand govt . are not credible

    about an hour ago · Like
  • Virendra Yadav‎@ shashi Bhooshan बेशक कुछ कमजोरियां जरूरी और मानवीय होती हैं .लेकिन भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के नेता यदि फर्जी बिल का भुगतान लें और अपनी बेटी का प्रवेश एस टी कोटे में मेडिकल कालेज में कराएँ जैसा किरण बेदी ने किया तो इसे “जरूरी और मानवीय “बताना मेरा मानदंड नहीं हो सकता विशेषकर तब जब यह भुगतान लाख से भी अधिक हो .प्रशांत भूषन द्वारा नियमविरुद्ध चाय के बागान की करोड़ों की खरीद भी मैं “जरूरी और मानवीय ” मानने की उदारता नहीं बरत सकता .मुझे आश्चर्य है कि आप मुझसे यह जानना चाहते हैं कि फर्जी बिल के कारण कहाँ ,कितनों की नौकरियां गयीं .सरकारी और सार्वजानिक क्षेत्र में यह तो जरूरी अनुशास्नात्मक कार्रवाई का हिस्सा है .लखनऊ HAL में एक साथ २९ लोगों की नौकरियां कुछ वर्ष पूर्व फर्जी एल टी सी बिल के कारण जा चुकी हैं .वित्तीय संस्थानों में इस तरह की दंडात्मक प्रक्रिया होती ही रहती है .विश्वविद्यालयों की अराजकता वहां अभी नहीं व्याप्त है . मेरे द्वारा अन्ना आंदोलन को प्रश्नांकित किया जाना ,जैसा और बी लोग कर रहे हैं व्यापक सन्दर्भों में है ,मैंने अपनी बात बड़े लेख में कही है ,अन्ना पर एक किताब हार्पर कालिंस छाप रहा है ,जल्दी ही आनी है ,चाहें तो पढियेगा मेरा नजरिया स्पष्ट हो जायेगा .

    21 minutes ago · Like
  • Indra Bhushan Verma‎”yahi tho baat hai – Saand ke liye aur bakari ke liye aur….

    11 minutes ago · Like · 1
  • Radhey Shyam PandeyVirendra Yadavji, yaha mudda corruption ka hai aur ise kaise fight out karake ek achha sashkta lokpal bill laya jaye, is par baate karane ka hai…. kripaya byaktigat bato se upar uthakar asal muddo par baate kare, aur usame ho rahe khamiyo/buraiyo se lade…..

    9 minutes ago · Like
  • Ashok PrakashPerhaps he wud’ve bn rewarded dis land 4 his views on Kasmir…

    15 hours ago · Like
  • Ashok Kumar PandeyAshok Prakashji, perhaps he will never-ever repeat that…he has got his graft 🙂

    15 hours ago · Like
  • Ramprakash AnantAshok ji पूँजीवाद में भ्रष्टाचार भी पूँजीवादी नियमों के अनुसार ही मिटाया जाता है. प्रशांत भूषण जो भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम चला रहे हैं भाजपा उसमें अपना फ़ाइदा देख रही है. उसके बदले में भाजपा ने जो रिश्वत दी है वह प्रशांत भूषण ने ले ली. या प्रशांत भूषण ने जो रिश्वत माँगी वह भाजपा ने दे दी.

    15 hours ago · Like · 1
  • चंदन कुमार मिश्रमैं तो कई चीजों को भ्रष्टाचार नहीं मानता जिससे बहुसंख्यक को फायदा हो। भले कानून कुछ भी कहे।

    15 hours ago · Like · 2
  • Himanshu Pandya‎…क्या ये हमारे ही समयों में होना था…!

    15 hours ago · Like · 1
  • चंदन कुमार मिश्रअनंत जी, पूँजीवाद में भ्रष्टाचार को नहीं मिटाया जा सकता।

    15 hours ago · Like · 2
  • आशीष देवराड़ीअन्ना भ्रष्टाचार मुक्त पूंजीवाद चाहते है …

    15 hours ago · Like · 1
  • आशीष देवराड़ीसंभव है ?

    15 hours ago · Like · 1
  • चंदन कुमार मिश्रहाँ, चीनी जो नमकीन हो, यह संभव है। लेकिन हमारे लिए।

    15 hours ago · Like · 2
  • Ramprakash Anantanna kuchh nahi chahate hai ve apane heroism ko siddh karana chahate hai.

    15 hours ago · Like · 1
  • Shamshad Elahee Shamsचलिये एक भूखे नंगे की गरीबी तो दूर हुई…भाजपा के एक दुमछल्ले का चांटा इन्हें ही पडा था, उसका हर्जाना सही से वसूला गया है..लेने वाला भी खुश, देने वाला भी खुश…दोनों सुखी रहेंगे..जय हो…

    15 hours ago · Like · 2
  • चंदन कुमार मिश्रऊपर ‘लेकिन हमारे लिए नहीं’ होगा। सुधार कर पढें।

    15 hours ago · Like · 1
  • Vivek ShrivastavaRamprakash ji aur Communist brashtaachaar ko kaise niptaate hain?lol

    15 hours ago · Like
  • Ramprakash Anantvivek ji apane mail today par lalu ka interview nahi dekha jisame unhone kaha hai ki bhrashtachar aise khatm nahi ho sakata. Usake lie sarakar ko sampatti ka punarvitaran karana padega. Lalu communist nahi hain aur n ve vaisa karana chahate hain jaisa kah rahe hain par un ki bat sahi hai.

    15 hours ago · Like · 1
  • Ashok Kumar PandeyVivek Shrivastavahansana svasthya ke liye labhkari hai…so keep on LOLs 🙂

    15 hours ago · Like · 1
  • Mohan Shrotriyaपिता की राह चलता पुत्र ! जो छवि घड़ी थी अपने लिए वह मुखौटा ही निकली. भाजपा विरोध का जो स्टैंड लेते-से दिख रहे थे, वह भी पुरस्कृत होने का जुगाड ही साबित हुआ.

    14 hours ago · Like · 1
  • Vivek ShrivastavaAshok bhai our nation is in “comedy of errors” like situation so you are also requested to join our laughter club.

    14 hours ago · Like
  • Jaywant Singhbhaiya hindustaan he…….itihaas dekho…..?

    14 hours ago · Like · 1
  • Sandip Naikमेरा बहुत मन है कि मै भी कुछ रूपया पैसा कमा लू छोटा मोटा या बड़ा सा काम करके आज अपने बहुत करीबी दोस्त विशाल से कह रहा था तो उसे आश्चर्य हुआ और मुझे तनिक भी ग्लानी नहीं हुए मुझे तो लोक पाल का इंतज़ार है कि आये और मुझे पकड़ ले फ़िर मै हम तो डूबेंगे सनम तुमको भी ले डूबेंगे की तर्ज पर सबको मार कर मरना चाहता हूँ………….

    14 hours ago · Like · 2
  • Jaywant Singhlok pal bhi indian hi hoga….sasad bhi indian he….purvjo ne yah nahee socha tha utraadhikari ese honge……….?

    12 hours ago · Like
  • Girish Mishra‎”Swarth Moolmantra” is the motto!

    3 hours ago · Like

लाल्टू का मत

प्रिय अफलातून भाई,
मैं अशोक पांडे को निजी तौर पर नहीं जानता, पर आपको जानता हूं, इसलिए आपको लिख रहा हूं.
क्या हर तरह की खबर का प्रचार करना चाहिए? थोड़ा बहुत जांच करनी भी चाहिए न कि खबर ठीक है या नहीं?
प्रशांत भूषण ने पालमपुर में जो वैकल्पिक  शिक्षा की कोशिश की है, वह प्रशंसनीय है. कई मित्र वहाँ जाते रहे हैं. अगर उसमें कोई कमी है तो वह इतनी कि वह पूरी तरह इसमें जुट नहीं पाया है.
प्रशांत को लेकर और कई भी सवाल हों, उसकी ईमानदारी पर शक की कोई गुंजाईश नहीं है.
हिमाचल सरकार ने एक अच्छे काम के लिए अनुमति दी तो उस पर यह तो कहा जा सकता है कि सिर्फ प्रशांत को ही क्यों, और भी लोग भला करना चाहते होंगे, पर इस तरह की खबरों से एक कैम्पेन उसके खिलाफ करना बिलकुल गलत है.
ला.

प्रिय भाई लाल्टू,
वकीलों की व्यक्तिगत ईमानदारी से उनकी भारी फीस को अलग करके कैसे देखा जा सकता है? जनहित के लिए मुफ्त लेकिन अन्य मामलों में एक बार खड़े होने का २०-२५ लाख लेते हैं।ऐसी फीस कौन दे सकता है? हिमाचल में काश्मीर के लिए बनी धारा ३७० जैसी धारा है ताकि बाहरी लोग जमीन न खरीद सकें। चाय बगानों पर तो सीलिंग भी नहीं लगती- बंग और केरल में भी नहीं । अच्छे लोगों के अच्छे कामों की व्यक्तिगत(व्यक्ति केन्द्रित) पहलों को मैं तरजीह नही देना चाहता- अपने आप में यह अलोकतांत्रिक होगा ही । आप कहें तो आपके विचारों को उस लिंक के साथ लगा दूं ?
सप्रेम,
आपका
अफलातून

आप लिंक के साथ लगा सकते हैं.
पर एक स्पष्टीकरण के साथ – जो आपके प्रश्न का जवाब भी है>
देखिये किन विवशताओं के साथ हम जीवन में समझौते करते हैं , यह सबके लिए अलग हैं. आप खुद ही कह रहे हैं कि जनहित के लिए मुफ्त मामला लड़ते हैं. अन्य मामलों से मिले पैसों से अगर वह पालमपुर जैसी अच्छी पहल कर रहा है, इसमें बुरा कुछ नहीं है. निजी नैतिक मानदंडों की लकीर  कहाँ खींची जाए, यह पेंचीदा सवाल है. जितनी हिम्मत के साथ उसने काश्मीर और छत्तीसगढ़ के आदिवासियों के अधिकारों जैसे मुद्दों पर स्टैंड लिया है, उसे देखिए. खबर इस पर नहीं है कि कुछ मामलों में उसकी फीस बहुत ज्यादा है, खबर यह कि वह भ्रष्टाचार में लिप्त हुआ है. इसकी जांच किए बिना इस तरह कैम्पेन नहीं करना चाहिए. क्या आपको या अशोक जी को कोई ऐसा तथ्य मालूम है कि प्रशांत का हिमाचल से कोई सम्बन्ध नहीं है. या ३७० जैसी धारा जो हिमाचल पर लागू होती है, क्या उसमें ऐसी कोई छूट नहीं है जिसके आधार पर शिक्षा  जैसे क्षेत्र में काम करने के लिए ज़मीन बिक सकती हो. अच्छा यह होता कि पहले जांच की जाती. प्रशांत को जितना मैं जानता हूं,   मैं कह सकता हूं कि उसे पूछने पर ये जानकारियाँ सही सही उसी से प्राप्त हो जातीं. मैं आपसे सहमत नहीं हूं कि पालमपुर की पहल व्यक्तिकेंद्रिक है. कम से कम जो मित्र वहां गए हैं, उनसे सुनकर ऐसा नहीं लगा. मेरी जानकारी के आधार पर मैं तो यह कहूंगा कि आप बिलकुल गलत कह रहे हैं.  मैं यह नहीं कह रहा कि वैचारिक रूप से मैं प्रशांत से हर बात में सहमत हूं. मैं यह भी नहीं कह रहा कि गैरबराबरी पर आधारित समाज में इस पर ध्यान न दिया जाए कि किसी के पास बहुत तो किसी के पास कुछ भी नहीं है. पर उससे बहुत कम पैसे कमा कर शायद उससे कहीं ज्यादा समझौते मैंने निजी दायरे में किए हैं. इसलिए उस पर पत्थर उठाने से पहले मैं ज़रूर सोचना चाहूँगा. अगर प्रशांत के बारे में मेरी जानकारी में कोई कमी है तो मैं भी जानना चाहूँगा .
ला.

Read Full Post »

यह तो कुमार विकल को भी ठीक ठीक नहीं पता था

कि वह पीता क्यों था

हम नाहक़ दोस्तों को कोसते रहे

पीने के वजहें सबसे अधिक तब मिलती हैं

जब पास कोई न हो

अनजान किसी ग्रह से वायलिन की आवाज़ आती है

आँखों में छलकने लगता है जाम

उदास कविताएँ लिखी जाती हैं

जिन्हें बाद में सजा धजा हम भेज देते हैं

पत्रिकाओं में

कोई नहीं जान पाता

कि शब्दों ने मुखौटे पहने होते हैं

मुखौटों के अंदर

रो रहे होते हैं शब्द ईसा की तरह

सारी दुनिया की यातनाएँ समेटे।

लिख डालो, लिख डालो

बहुत देर तक अकेलापन नहीं मिलेगा

नहीं मिलेगी बहुत देर तक व्यथा

जल्दी उंडेलो सारी कल्पनाएँ, सारी यादें

टीस की दो बूँदें सही, टपकने दो इस संकरी नली से

लिख डालो, लिख डालो।

बहुत देर तक बादल बादल न होंगे

नहीं सुनेगी सरसराहट हवा में बहुत देर तक

जल्दी बहो, निचोड़ लो सभी व्यथाएँ, सभी आहें

अभ्यास ही सही, झरने दो जो भी झरता स्मृति से

लिख डालो, लिख डालो।

लाल्टू

[ कवि-मित्र लाल्टू के जन्म दिन पर उन्हीकी कविता सप्रेम पेश ]

लाल्टू की कुछ और कवितायें : वह प्यार

लाल्टू से सुनो ,

लाल्टू की अभिव्यक्ति

Read Full Post »

%d bloggers like this: